Gallbladder Stone | Buy Medicines | yogveda

Search

Difference between natural gallstone treatment vs gallstone surgery.

Post by
Are you a patient undergoing an issue of gallstone? There are multiple gallstone treatments available. However, the patients are generally not aware of the options. Traditionally, there are 2 gallstone treatments. Most people consider gallstone surgery and the other popular gallstone treatment which is available is natural gallstone treatment. Both of the treatments are effective and help to pass the gallstone easily. However, the natural gallstone treatment is remarkably simple and more affordable. What is the truth about the natural treatment? Natural treatment is becoming more popular day by day. However, people still consider natural treatment as ineffective. However, the natural treatment is best suited as it doesn’t cause any side effects. Apart from it natural remedies for gallstone are extremely affordable and can be done at home very easily. Natural Gallstone Treatment Vs Gallstone Surgery  Natural Gallstone Treatment and Gallstone Surgery are often compared. Patients are often confused about whether the ayurvedic gallstone treatment will work or not. However, the past results have completely proven that the gallstone can be easily treated with the help of ayurvedic medicines. On the other hand, gallstone surgery takes a longer duration as the healing of the stitches takes time. Apart from it, there are multiple other aspects as well. It includes age factors, other illnesses physical body limitations. Other than this surgery is stressful mentally as well. Also Read: How to dissolve gallstones naturally with Ayurveda?  How to know your piles issue needs surgery? Yogveda Healthcare is a brand that has helped multiple patients with the ayurvedic gallstone treatment. So if you are also in need of

पित्त की थैली मे पथरी का घरेलू उपचार

Post by

नाशपाती

नाशपाती पथरी मे होने बाले दर्द को कम करने मे सहायता करता है इसमें एक ऐसा तत्व पाया जाता है जो कोलेस्ट्रॉल की बनी  पथरी को नरम करने मे सहायता करता है।

हल्दी

हल्दी पित्त की पथरी के लिए बहुत ही लाभकारी सिद्ध होती है यह एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी होती है जो की पित्त की पथरी को आसानी से ख़त्म कर देती है एक चमच हल्दी लेने से पित्त की पथरी को आसानी से विघटित  किया जा सकता है।

बड़ी इलायची

बड़ी इलायची को आधा ग्राम खरबूजे के बीज के साथ पीसकर फिर इसका सेवन करने से पित्त की पथरी मे फायदा मिलता है।

सेव का जूस

सेव को अच्छी तरह धो ले फिर इसे उबालने के लिए रख दे उसके बाद ये उबलकर नरम हो जाये फिर इसे मिक्सर मे डालकर पीस ले पीसने के बाद इसे छान ले जब यह जूस छन जाये फिर इसमें चीनी मिलाकर इस जूस का सेवन करें।

नीबू का रस

नीबू का रस लिवर  मे बने  कोलेस्ट्रॉल को साफ़ कर देता है चार नीबू का रस निकाल ले फिर इसे सुबह खाली पेट पी ले इसकी प्रकृति अम्लीय होती है इसका सेवन करने से पित्त की पथरी को ख़त्म किया जा सकता है। पित्त मे होने वाली पथरी को मूली का रस पीने से काफी हद तक सही किया जा सकता है।

अनार

अनार पोटैशियम का अच्छा स्त्रोत होता है जो की पथरी के गठन को रोकता है अत अनार पित्त की पथरी के बनने मे काफी सहायक सिद्ध होता है अनार मे ऐसे तत्व पाए जाते है जो की विषाक्त पदार्थो को मूत्र के द्वारा बहार निकालने मे मदद करते है।

लाल शिमला मिर्च

पित्त की पथरी के रोगियों को अपनी डाइट मे शिमला मिर्च को जरूर  शामिल करना चाहिए शिमला मिर्च मे विटामिन c  होता है जो की पित्त की पथरी के रोगियों के लिए बहुत ही लाभकारी होता है।

खीरे और ककड़ी का रस

खीरे और ककड़ी का रस को मिलाकर  पीने से पित्त की पथरी मे फायदा मिलता है।  

विटामिन C

पित्त की पथरी मे विटामिन C से बने फलो को खाने से बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है जैसे कि खट्टे फल संतरा , मौसम्मी , टमाटर ये पित्त की पथरी के विघटन मे सहायता करेंगे।  

सेव का रस

सेव का जूस पीने से पित्त की पथरी मे बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है ५ से ६ दिन लगातार सेव का रस पीने से पित्त की पथरी मे बहुत ही फायदा मिलता है।  

अंगूर का जूस

अंगूर का जूस पीने से पित्त की पथरी मे बहुत ही लाभ मिलता है रोज सुबह अंगूर का जूस पीने से पित्त की पथरी काफी लाभकारी सिद्ध होता है।  

पानी

गुनगुना पानी पीने से पित्त की पथरी मे बहुत ही लाभकारी होता है यह पाचन क्रिया को दुरस्त करता है।  

तोरई

तोरई का जूस बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है पित्त की पथरी मे अगर आप नियमित रूप से तोरई का जूस पीते है  तो ये आपकी पित्त की पथरी मे बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है।  

क्रैनवेरी

पित्त कि पथरी मे क्रैनवेरी बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है ये पथरी को मूत्र मार्ग से बहार निकालता है।  

तली चीज़ो से परहेज़

पित्त की थैली मे पथरी होने पर तली चीज़े नहीं खाना चाहिए क्योकी इसमें सैचुरेटेड और ट्रांस वसा होती हैजो की पाचन को बिगाड़ती है  पित्त की थैली खाना पचाने मे सहायता करती है अत पित्त की थैली होने पर तली हुई चीज़ो से परहेज़ करना चाहिए।  

मीट का सेवन

मासाहारी चीज़ो मे कोलेस्ट्रॉल और वसा बहुत अधिक मात्रा मे पाया जाता है जो की पित्त की पथरी के निर्माड़ का कारन बनती है मासाहार का सेवन  पैट दर्द का कारन बनती है ये आपके लिए हानिकारक होगा ।  

पैकिट बंद चीजों से बचें 

पैकेट बंद चीज़ो मे फैटी एसिड पाया जाता है जो की पित्त की पथरी को बढ़ावा देता है अत जिन लोगो को पथरी की शिकायत पायी जाती है उन्हें पैकेट बंद चीज़ो का उपयोग नहीं करना चाहिए ।  

अतरिक्त जानकारी के लिए हमें इस

Back to Top